Wednesday, May 12, 2010

धर्म एक सामाजिक विचार

आज का धर्म एक सामाजिक विचार (परिभाषा में परिवर्तन) : हरीश कुमार तेवतिया:


हिन्दू, मुस्लिम, सिक्ख और इसाई : चारों ने समाज को आज कम से कम चार भागो में बाट दिया हैं। मैं आपसे एक बात पूछना चाहता हूँ की एकता की परिभाषा एकजुट होती हैं या चारगुट होती हैं? जो लोग उपरोक्त शब्दों का इस्तमाल करते हैं और एकता को चारगुटों में विभाजित करतें हैं वास्तव में वे व्यापारी हैं


"अगर विभाजित ही करना हैं तो ज्ञान को विभाजित करो जोकि व्यक्तिगत कर्मों से जुड़ा हो, जैसी रूचि, वैसा ज्ञान और सफलता हमारा भविष्य"


ये चार शब्द हमारी पहचान तो हो सकते हैं लेकिन धर्म नहीं, ये चारों शब्द हमारी आस्था, नियति और सोच की पहचान करा सकते हैं क्योंकि धर्म की राह पर चलने वालों ने केवल एक ही मत दिया हैं जो हैं कर्म! हम जगह - जगह पर महापुरषों और ग्रंथों की एक पंक्ति को लिखा पते हैं " हमारा धर्म ही हमारा कर्म हैं!"


फिर मिलेंगे !!

20 comments:

  1. bahut acchi soch hai.............

    ReplyDelete
  2. "अगर विभाजित ही करना हैं तो ज्ञान को विभाजित करो जोकि व्यक्तिगत कर्मों से जुड़ा हो, जैसी रूचि, वैसा ज्ञान और सफलता हमारा भविष्य"

    excellent.................

    ReplyDelete
  3. harish , aapne kaafi accha socha hai .....

    ReplyDelete
  4. एकता की परिभाषा एकजुट होती हैं या चारगुट होती हैं?

    sahi Question hai ...is topic ko PM office tak le jaana hai Harish tumhe apne is blog ke medium se

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छा व्यक्त किया हैं आपने

    ReplyDelete
  6. gr8 thinking...keep up the gud work

    ReplyDelete
  7. sunil shrivastavaMay 13, 2010 at 4:49 PM

    very Great thinking...keep up the gud work

    ReplyDelete
  8. बहुत ही ज़बरदस्त लिखा है हरीश जी, बहुत खूब!

    ReplyDelete
  9. bhai achha likha hain (good)

    ReplyDelete
  10. "अगर विभाजित ही करना हैं तो ज्ञान को विभाजित करो जोकि व्यक्तिगत कर्मों से जुड़ा हो, जैसी रूचि, वैसा ज्ञान और सफलता हमारा भविष्य"

    achhi soch hain (I got it)

    ReplyDelete
  11. Good thinking..!! but I don't know copy kahan se kiya...

    ReplyDelete
  12. nice blog....you can do it harish....

    ReplyDelete
  13. धन्यवाद मित्रों आपकी सेवा में फिर आना चहुँगा

    ReplyDelete
  14. " हमारा धर्म ही हमारा कर्म हैं

    @ बढ़िया सदविचार

    ReplyDelete
  15. बहुत खुबसूरत सोच हैं आपकी
    आज के युवा की सोच ऐसी ही होनी चाहिए
    कर्म ही सर्वोपरि हैं

    ReplyDelete
  16. Wah Harish Babu, Badhia Hai!

    ReplyDelete
  17. Nice blog & good post. overall You have beautifully maintained it, you must try this website which really helps to increase your traffic. hope u have a wonderful day & awaiting for more new post. Keep Blogging!

    ReplyDelete